साहित्य कला संस्कृति सेवा युवाओं में करेगी राष्ट्रजागरण : अतुल द्विवेदी

in #hindi11 days ago

1000241242.jpg

झाँसी। हिन्दी साहित्य भारती एवं संस्कार भारती झाँसी महानगर इकाई द्वारा संयुक्त मासिक आयोजन "राष्ट्रजागरण" सिद्धेश्वर मन्दिर प्रांगण में पीठाधीश्वर आचार्य हरिओम पाठक के सानिध्य, केंद्रीय अध्यक्ष डॉ रवींद्र शुक्ल की अध्यक्षता एवं उत्तर प्रदेश लोक कला एवं जनजाति कला एवम संस्कृति संस्थान लखनऊ अतुल द्विवेदी के मुख्य आतिथ्य में सम्पन्न हुआ।

1000241239.jpg

अतिथियों द्वारा दीप प्रज्वलन के पश्चात श्रीमती मंजू खरे ने सरस्वती वन्दना प्रस्तुत की एवं आमंत्रित कविगणों सर्वश्री प्रताप नारायण दुबे, जगत शर्मा (दतिया), राकेश सोनी, धर्मेंद्र सारांश एवं डॉ बृजलता मिश्रा आदि ने राष्ट्रचेतना से ओतप्रोत उत्कृष्ठ काव्यपाठ किया। मुख्य अतिथि अतुल द्विवेदी ने कहा कि हिन्दी साहित्य एवं कला संस्कृति के माध्यम से युवाओं में राष्ट्रीय चेतना का सार्थक प्रयास है राष्ट्रजागरण। कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए केंद्रीय अध्यक्ष डॉ रवींद्र शुक्ल ने कहा कि समूचे भारत में हिन्दी साहित्य भारती एक साहित्य यात्रा के द्वारा युवाओं को राष्ट्रचिन्तन के द्वारा मुख्यधारा से जोड़ेगी। संस्कार भारती के प्रदेश महामंत्री नरेश चंद्र अग्रवाल ने कहा कि कला संस्कृति साहित्य को एक दूसरे का पूरक निरूपित करते हुए राष्ट्रजागरण को सार्थक प्रयास हैं। चार वर्षीय नन्ही बालिका विनायिका मिश्रा ने सुभद्रा कुमारी चौहान रचित "खूब लड़ी मर्दानी वो तो झाँसी वाली रानी थी" का सस्वरपाठ किया। वहीं, कार्यक्रम का संचालक महानगर अध्यक्ष एवं विभाग संयोजक संजय तिवारी राष्ट्रवादी ने किया और जिलाध्यक्ष डॉ राजेश तिवारी मक्खन एवं महामंत्री सीताराम कुशवाहा ने संयुक्त रूप से आभार व्यक्त किया। इस मौके पर निहाल चंद्र शिवहरे, सुखराम चतुर्वेदी फौजी, विजय प्रकाश सैनी, डॉ राज गोश्वामी, यदुवंशी बद्री पाड़री, शरद मिश्रा, दिनेश खरे, मधुर सोनी, कैलाश नारायण मालवीय, डॉ मुहम्मद नईंम, डॉ के के साहू, विनोद शर्मा, तेजभान बुंदेला, कामता प्रसाद प्रजापति, शिवम शर्मा व डॉ ए पटेरिया मौजूद रहे।