तीस साल के दिव्यांग युवक पर दो परिवार ने किया पुत्र होने का दावा

in #hardoi4 months ago

IMG-20240212-WA0002.jpg
हरदोई :-उत्तर प्रदेश के हरदोई जिले में आज पुलिस उस समय पशोपेश में पड़ गयी जब एक तीस साल के मूक बधिर दिव्यांग युवक को दो अलग अलग गांव के परिवार अपना पुत्र बताते हुए दावा करने लगे। यही नहीं कोतवाली परिसर में युवक पर अपना दावा जताने के लिए दोनों ही पक्षों के साथ दोनों गांवों के सैकड़ों लोग थाने पर पहुंचे और अपने अपने गांव का युवक बताने लगे। एक पक्ष का कहना था की दस साल पहले गायब हुआ यह उनका पुत्र है जबकि दूसरा पक्ष यह कह रहा था की बीते 22 जनवरी को गायब हुआ उनका पुत्र है। अपने अपने दावे के लिए दोनों पक्षों ने पुलिस को आधार कार्ड भी दिखाए जिसके बाद पुलिस भी इस मामले में उलझ कर रह गयी फिलहाल पुलिस पूरे मामले को समझ कर सुलझाने में लगी हुई है। पुलिस थाने के अंदर भारी भीड़ और हंगामे की यह तस्वीरें कछौना कोतवाली परिसर की है।जहा पर अलग अलग गांव के दो पक्ष मौजूद है और एक तीस साल के दिव्यांग मूकबधिर युवक को अपना पुत्र बताकर अपने साथ ले जाने का दावा कर रहे है। जिनमे एक पक्ष से रामप्यारे जो इसी थाने के कामीपुर गांव के रहने वाले है तो दूसरा पक्ष भगवानदीन भी इसी थाने के इनायतपुर गांव के रहने वाले है। दोनों ही लोग एक दिव्यांग युवक पर पिता होने का दावा प्रस्तुत कर रहे है और दोनों ही पक्ष इस युवक के पिता बनकर अपने-अपने गांव के सैकड़ों लोगों के साथ कोतवाली पहुंच कर दावेदारी कर रहे है कामीपुर गांव के रहने वाले रामप्यारे का कहना है उनका तीस साल का इकलौता पुत्र गया प्रसाद जो कि दिव्यांग है वह अपनी बुआ बिटोली पत्नी नोखे निवासी खुटेहना थाना संडीला के यहां गया था जहां से वह 22 जनवरी से लापता हो गया है। परिवार को खोजबीन के दौरान जानकारी लगी कि गया प्रसाद इनायतपुर निवासी भगवानदीन के घर में है । इस सूचना पर जब वह अपने पुत्र को लेने पहुंचे भगवानदीन के गांव पहुंचे तो भगवानदीन से उसे अपना दस साल पूर्व खोया पुत्र बता दिया और उन लोगों ने विवाद किया जिसके बाद उन्होंने यूपी 112 पुलिस को सूचना दी जिसके बाद आज दोनों पक्षों को थाने बुलाया था। रामप्यारे अपने साथ अपने दावे को पुख्ता करने के लिए गया प्रसाद का आधार कार्ड और सैकड़ो लोगो की भीड़ के साथ थाने पहुंचे तो इनायतपुर गांव के दूसरे पक्ष के भगवानदीन का कहना है कि यह दिव्यांग उनका पुत्र शिवपाल है जो घर से 10 साल पहले गायब हो गया था और उसके बाद अब अपने आप अपने घर पहुंच गया है इसलिए यह पुत्र उनका अपना है। उसने भी शिवपाल का आधार कार्ड पुलिस को दिखाया और गवाह के रूप में अपने साथ गांव के लोगो को लाया। एक युवक पर दो परिवार के अपने अपने पुत्र होने का दावा करते हुए दोनों पक्ष उसे अपने साथ ले जाने के लिए हंगामा करने लगे। दोनों पक्षों के दावे को लेकर पुलिस भी पशोपेश में पड़ी हुई है पुलिस के मुताबिक दोनों पक्षों के आधार कार्ड और लोगो से बातचीत के बाद इस मामले का हल निकाल लिया जाएगा