वसुंधरा में 45 मिनट तक लिफ्ट में फंसे रहे तीन बच्चे, बिगड़ी तबीयत

in #ghaziabad24 days ago

वसुंधरा सेक्टर 11 के द्रोणागिरी अपार्टमेंट में टावर की रविवार शाम को लिफ्ट खराब होने से उसमें तीन बच्चे 45 मिनट तक फंसे रहे। बच्चों के शोर मचाने पर लोगों ने लिफ्ट तोड़कर उन्हें बचाया। तीनाें बच्चों की तबीयत बिगड़ गई। लोगों ने घटिया दर्जे की लिफ्ट लगाने और नियमित मेंटेनेंस नहीं करने का आरोप लगाया है।
अपार्टमेंट के अर्क शंकर, कौस्तव बंसल, युवराज सिंह तीनों बच्चे रविवार शाम को खेलने गए थे। तीनों की उम्र लगभग 11 से 12 के बीच हैं। शाम करीब छह बजे वह खेलकर अपने फ्लैट में जा रहे थे। भूतल से तीनों लिफ्ट में सवार हो गए।
लिफ्ट चौथे और पांचवें तल के बीच फंस गई। बच्चों ने काफी शोर मचाया लेकिन किसी को सुनवाई नहीं दिया। तीनों बच्चे अंदर रोने लगे। इनमें अर्क शंकर ने रोते हुए अपने दोनों दोस्तों की काउंसलिंग की और हिम्मत बनाए रखने की बात कही। कुछ देर बाद ही अपार्टमेंट की बिजली आपूर्ति रुक गई।
इससे लिफ्ट में अंधेरा हो गया। इससे बच्चे अधिक डर गए। तभी चौथे तल पर लिफ्ट के पास पहुंचे एक व्यक्ति को बच्चों की आवाज सुनाई दी। उन्हें अहसास हुआ कि लिफ्ट में बच्चे हैं। सोसायटी के अन्य लोग भी मौके पर पहुंचे।
लोगों ने राड और लकड़ी की मदद से लिफ्ट को तोड़ा। इसके बाद बच्चों को बाहर निकाला। इनमें युवराज को चोट भी लगी है। बच्चों काे प्राथमिक उपचार दिया गया। अर्क शंकर के पिता अमित शंकर ने बताया कि सोसायटी में बहुत ही घटिया दर्जे की लिफ्ट लगाई गई हैं। उनका नियमित रूप से मेंटेनेंस नहीं किया जाता है। लोग अपने खर्चे से ही अपार्टमेंट की देखरेख करते हैं।
1000359017.jpg